समर्थक

शनिवार, 22 अगस्त 2009

"बुलबुलों का सदन है मेरा वतन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मेरे श्रीमान जी (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") लिखते तो बहुत हैं,
परन्तु घर में कभी गाते नही हैं।
आज उन्हीं की आवाज में उनका निम्न गीत प्रस्तुत कर रही हूँ।

श्रीमती अमर भारती


बुलबुलों का सदन है मेरा वतन,
क्यों इसे वीरां बनाने पर तुले हो?

खुशबुओं का चमन है मेरा वतन,
क्यों यहाँ दुर्गन्ध लाने पर तुले हो?

शान्त-सुन्दर भवन है मेरा वतन,
आग क्यों इसमें लगाने पर तुले हो?

प्यार की गंग-ओ-जमुन मेरा वतन,
क्यों यहाँ हिंसा बहाने पर तुले हो?

रोशनी में मगन है, नन्हा दिया,
इससे क्यों घर को जलाने पर तुले हो?

Google+ Followers

चुराइए मत! अनुमति लेकर छापिए!!

Protected by Copyscape Online Copyright Infringement Protection

लिखिए अपनी भाषा में